BA 3rd Year Sanskrit Syllabus 2022-2023 Session

Today you will get the information about ba 3rd year sanskrit syllabus for the session 2022-23.  

This syllabus is very helpful to you if you have passed the second-year examination in this stream and joined the third year. 

As you know that the syllabus is a document that has all the essential information about the course. 

The topic list given in the syllabus helps you to know, which chapter should be read for examination and knowledge purposes.

This syllabus gives by your professors and another authorized person.

Do you know? what is the difference between syllabus and curriculum?

Explain- A syllabus covers portions of topics of a particular subject and a curriculum is a combination of subjects or topics.

Now come to the topic. 

This b.a. 3rd year sanskrit syllabus provides the roadmap, contract, permanent record, and communication device to the students.

That helps them to prepare for the examination systematically. 

This b.a 3rd year sanskrit syllabus 2022-23 is a brief description of the assignment to give the students a sense of how much work is required in this course.

Since the syllabus is the first material students will have about the course, So, you have to encase this opportunity and focus to understand the importance.

BA Final Year Sanskrit Syllabus

B.A 3rd Year Sanskrit Syllabus 1st Paper

बी0 ए0 तृतीय वर्ष (संस्कृत) प्रथम प्रश्न-पत्र

(काव्य , दर्शन एवं व्याकरण)

खण्ड एक - शिवराजविजय

  • इकाई-1 अम्बिकादत्त व्यास का परिचय तथा संस्कृत गद्य साहित्य में शिवराजविजय
  • इकाई-2 प्रथम नि:श्वास-विष्णोर्माया----उपाविशच्च तक (मूल, अर्थ, व्याख्या)
  • इकाई-3 तस्मिन पूज्यमानै:----तृष्णीमवतस्थे तक (मूल, अर्थ, व्याख्या)
  • इकाई-4 अथ समुनि.......विरराम तक (मूल, अर्थ, व्याख्या)
  • इकाई-5 तदाकर्ण्य विविध.....स्वकुटीरं प्रविवेश तक (मूल, अर्थ, व्याख्या)

खण्ड दो-(श्रीमद्धगवद्गीता) द्वितीय एवं तृतीय अध्याय

  • इकाई-1 श्रीमद्धगवद्गीता का परिचय एवं महत्व
  • इकाई-2 श्लोक सं0 1 से 24 तक मूल अन्वय, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-3 श्लोक सं0 25 से 49 तक मूल अन्वय, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-4 श्लोक सं0 50 से 73 तक मूल अन्वय, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-5 तृतीय अध्याय श्लोक सं0 1 से 20 तक मूल अन्वय, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-6 तृतीय अध्याय श्लोक सं0 21 से 43 तक मूल अन्वय, अर्थ, व्याख्या

खण्ड तीन - व्याकरण-हल्‌ एवं विसर्ग सन्धि

  • इकाई-1 सूत्र-स्तो:श्चुनाश्चु: से शश्छोsटि तक व्याख्या एवं प्रक्रिया अंश
  • इकाई-2 मोनुस्वार: से.......'नश्च तक व्याख्या एवं प्रक्रिया अंश
  • इकाई-3 नश्च सूत्र से........पदान्तद्वा तक व्याख्या एवं प्रक्रिया अंश
  • इकाई-4 विसर्ग सन्धि सम्पूर्ण व्याख्या एवं प्रक्रिया अंश
  • इकाई-5 शब्द रूप एवं धातु रूप-लटू, लोट, लिड, लुट लड लकारों में

खण्ड चार-तर्क संग्रह

  • इकाई-1 न्याय दर्शन का संक्षिप्त परिचय अन्नंभट्ट एवं उनका कर्त्तृत्व
  • इकाई-2 तर्कसंग्रह मंगलाचरण से शब्द लक्षण वर्णन तक
  • इकाई-3 बुद्धिलक्षण से - पक्षधर्मता लक्षण तक
  • इकाई-4 अनुमानह्रैविध्य से.......बाधितलक्षण पर्यन्त
  • इकाई-5 उपमान खण्ड से लेकर............अभाव वर्णन पर्यन्त

B.A 3rd Year Sanskrit Syllabus 2nd Paper

द्वितीय प्रश्न पत्र - वेद एवं उपनिषद्‌

खण्ड एक - वैदिक सूक्त

  • इकाई-1 अग्नि।/1 एवं विष्णु सूक्‍्त मूल 154/1,व्याख्या
  • इकाई-2 अक्षसूक्तूमूल 34/10, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-3 शिवसंकल्पसूक्त एवं सूर्य सूक्त, 11/1 मूल, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-4 इन्द्र सूक्त 12/2 मूल, अर्थ, व्याख्या
  • इकाई-5 सूक्तों में पठित देवताओं के महत्व की विवेचना संक्षिप्त वैदिक व्याकरण

खण्ड दो. प्रथम अध्याय कठोपनिषद्‌

  • इकाई-1 उपनिषद्‌प्रादुर्भाव, शिक्षाएं, कठोपनिषद्‌ का विहंगावलोकन
  • इकाई-2 प्रथम अध्याय, प्रथम वल्ली मन्त्र संख्या मूल तक ।5 से 1, अर्थ, अन्वय, व्याख्या, व्याकरणादि
  • इकाई-3 प्रथम अध्याय, प्रथम वल्ली मन्त्र संख्या मूल तक 29से 16, अर्थ, अन्वय, व्याख्या, व्याकरणादि
  • इकाई-4 प्रथम अध्याय, द्वितीय वल्ली सम्पूर्ण मूल), अर्थ, अन्वय, व्याख्या, व्याकरणादि
  • इकाई-5 प्रथम अध्याय, तृतीय वल्ली सम्पूर्ण मूल, अर्थ, अन्वय, व्याख्या, व्याकरणादि

खण्ड तीन - वैदिक साहित्य का इतिहास 

  • इकाई-1 वैदिक संहिताएं, भाष्यकार वैदिक एव लौकिक संस्कृत में अन्तर
  • इकाई-2 ऋग्वेद- परिचय, समय तथा ऋग्वेद कालीन धर्म, संस्कृति एवं समाज
  • इकाई-3 यजुर्वेद- शाखाएं, भेद, वर्ण्य विषय, धर्म एवम्‌ समाज
  • इकाई-4 सामवेदअर्थ, स्वरूप, शाखाएं, वर्ण्य विषय
  • इकाई-5 अथर्ववेदरूपस्व, शाखाएं एवम्‌ वर्ण्य विषय

खण्ड चार- बेदांग उपनिषद्‌ एवं आरण्यक

  • इकाई-1 वेदांगों का परिचय एवं वर्ण्य विषय
  • इकाई-2 आरण्यक अर्थ, परिचय एवं वर्ण्य विषय
  • इकाई-3 उपनिषद्‌ अर्थ, रचनाकाल, संखूया एवम्‌ प्रमुख उपनिषदों का परिचय
  • इकाई-4 उपनिषदो के प्रमुख प्रतिपाद्य विषय

Introduce b.a. 3rd year sanskrit book with writer name for the notes preparation. 

These are textbook, which helps you to understand the chapter.

BA 3rd Year Sanskrit Book

Recommended ba part 3 Sanskrit book

  • ऋक्‍्सूथ्जसड़्हः - डॉ. हरिदत्त शास्त्री प्रकाशक-साहित्य भंडार, सुभाषवार, मेरठ
  • ऋकसूक्तनिकर: - डॉ. उमाशंकर शर्मा (ऋषि प्रकाशक - चौखम्बा ऑरियन्टालिया, वाराणसी
  • ऋग्भाष्यसडभह: - डॉ. देवराज चानना प्रकाशक - मुन्शीराम मनोहरलाल पब्लिशर्स प्रा. लि., दिल्‍ली
  • कठोपनिषद- (]) व्याख्याकार - डॉ. विजेन्द्र कुमार शर्मा, साहित्य भंडार, मेरठ। (2) व्याख्याकार - प्रो. शिवबालक द्विवेदी ग्रन्थम, रामबाग, कानपुर
  • स्नातक वैदिक व्याकरण - डॉ. उमाशंकर शर्मा (ऋषि) चौखम्बा पब्लिशर्स, वाराणसी
  • संस्कृत-व्याकरणोदय: (परिशिष्ट-ख) - डॉ. जयमन्त मिश्र
  • वैदिक व्याकरण - डॉ. कृत्यानंद 'प्रचेता' अल्का प्रकाशन, मुगेर
  • ऋक्सूक्तसन्दर्शिका (वैदिक व्याकरण) डॉ. बालगोविन्द झा चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी
  • वैदिक प्रक्रिया व्याख्याकार - डॉ. दामोदर महतो मोतीलाल बनारसीदास, पटना-4
  • वैदिक के साहित्य का समालोचनात्मक इतिहास - डॉ, रामविलास चौधरी मोतीलाल बनारसीदास, पटना-4
  • वैदिक साहित्य का इतिहास- डॉ. कर्ण सिंह
  • लघुसिद्धान्तकौमुदी (वरदराज)
  • व्याख्याकार (1) - श्री गोविन्द प्र. शर्मा चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी
  • व्याख्याकार (2) - श्री महेश सिंह 'कुशवाहा' चौखम्बा विद्याभवन, वाराणसी
  • व्याख्याकार (3) - अश्रीधरानन्द शास्त्री मोतीलाल, बनारसीदास, पटना-4
  • व्याख्याकार (4) - श्रीभीमसेन शास्त्री, भैमी प्रकाशन, 537, लाजपत राय मार्केट, दिल्‍ली-4
  • लघुसिद्धान्तकौमुदी (वरदराज:) श्री गोविन्द प्रसाद शर्मा चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी
  • काव्यदीपिका (कान्तिचन्द्रभट्‌टाचार्य:)
  • व्याख्याकार - (1) श्रीकृष्णणि त्रिपाठी चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी-]
  • व्याख्याकार - (2) रामगोविन्द शुक्ल चौखम्बा संस्कृतसीरीज ऑफिस, वाराणसी।
  • व्याख्याकार - (3) परमेश्वरानन्द शर्मा मोतीलाल बनारसीदास, पटना-4
  • वृत्तरलाकर: (केदारपट्‌ट), व्याख्याकार - बलदव उपाध्याय:, चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी
  • श्रुतबोध: (कालिदास:) टीकाकार -श्रीकनकलालठाकुर ऋर:, चौखम्बा संस्कृत सीरीज ऑफिस, वाराणसी
  • इहनन्‍्दोमंजरी (गंगादास:), संपादक-अनन्तरामशास्त्री, चौखम्बा संस्कृत सीरीज ऑफिस, वाराणसी
  • भाषा विज्ञान- डॉ. कर्ण सिंह, प्रकाशक साहित्य भण्डार, सुभाष बाजार, मेरठ
  • भाषा विज्ञान एवं भाषाशास्त्र - डॉ. कपिलदेव द्विवेदी, विश्वविद्यालय प्रकाशन, वाराणसी
  • भाषाविज्ञान की भूमिका- डॉ. देवेन्द्रनाथ शर्मा, राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्‍ली
  • 'पाणिनीयशिक्षा- व्याख्याकार - डॉ. दामोदर महतो, मोतीलाल बनारसीदास, पटना 
  • लघुसिद्धान्तकौमुदी (संगप्रकरणम्‌) वरदराज:
  • निबन्धसुधा - डॉ. सुखेश्वर झा, पूर्णा प्रकाशन, हरसुवार, मधुबनी
  • संस्कृत निबंध: - सम्पादक तारिणीश झा, प्रकाशन केन्द्र, लखनऊ
  • संस्कृत निबन्ध रत्नाकर: - डॉ. राजकिशोर सिंह, प्रकाशन केन्द्र, लखनऊ
  • संस्कृत निबन्धांजलि: - डॉ. रामकृष्ण आचार्य, विनोद पुस्तक मन्दिर, आगरा
  • बाल निबन्धमाला - वासुदेव द्विवेदी शास्त्री, सर्वभौम संस्कृत प्रचार कार्यालय, हौज कटोरा, वाराणसी
  • संस्कृतनिबन्धशतकम्‌ - डॉ. कपिलदेब द्विवेदी, विश्वविद्यालय प्रकाशन, वाराणसी।
  • रचनानुवाद कौमुदी - डॉ. कपिलदेव द्विवेदी, विश्वविद्यालय प्रकाशन, वाराणसी
  • रचनानुवाद प्रभा - डॉ. श्रीनिवास शास्त्री, साहित्य भंडार, मेरठ
  • संस्कृत रचना अनुवाद कौमुदी - तारिणीश झा, प्रकाशन केन्द्र, लखनऊ
  • पत्रमंजूषा - वासुदेव द्विवेदी शास्त्री तथा धर्मदत्त चतुर्वेदी, सार्वभौम संस्कृत प्रचार कार्यालय, वाराणसी
  • इतिहास - संस्कृत साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास - डॉ. रामविलास चौधरी, मोतीलाल बनारसीदास, पटना
  • संस्कृत साहित्य की रूपरेखा - पं. चन्द्रशेखर पाण्डेय तथा डॉ. शान्ति कुमार नानुराय व्यास, साहित्य, निकेतन, कानपुर
  • संस्कृतवाक्यम का विवेचनात्मक इतिहास - डॉ. सूर्यकान्त, ऑरियेण्टल लौंगमेन लिमिटेड, आसफअली रोड, नई सड़क, दिल्‍ली
  • निबंध - बालनिबन्ध माला - वासुदेव द्विवेदी शास्त्री, सार्वभौम संस्कृत प्रचार कार्यालय, वाराणसी
  • संस्कृत निबंध - उमाशंकर शास्त्री 'जानकार' प्रकाश केन्द्र, लखनऊ
  • लघुसंस्कृत निबन्ध रत्नाकर: - डॉ. राजकिशोर सिंह, प्रकाशन केन्द्र, लखनऊ
  • संस्कृत निबन्धांजलि: - डॉ .रामकृष्ण प्राचार्य, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा
  • बाल निबन्ध - डा. सुखेश्वर झा, पूर्णा प्रकाशन, हरसुवार, मधुबनी
  • अलंकार - काव्यदीपिका - कान्तिचन्द्रभट्टाचार्य व्याख्याकार - पं. रामगोविन्द शुक्ल: चौखम्बा, संस्कृससीरीज ऑफिस, वाराणसी
  • छन्द: वृत्त रलाकर:-केदारभटूट : व्याख्याकार - आचार्य बलदेव उपाध्याय चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी
  • श्रुबोध: (कालिदास:) टीकाकार:- श्रीकनकलाल ठाकुरः चौखम्बा संस्कृत सीरीज ऑफिस, वाराणसी

If you like this post please share and subscribe to it. 

Comments