कोरल द्वीप क्या होता है | What is coral island

आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताएँगे की कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप क्या है, इसके इकोसिस्टम, फार्मेशन, और आइलैंड कैसे बनते हैं उसके बारे में | इन सब के अतिरिक्त आप और भी बहुत कुछ जान पाएंगे इस पोस्ट के माध्यम से | ये पोस्ट आपके लिए कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप के प्रश्नों का उत्तर पाने की विकिपीडिया साबित होगी |


कोरल द्वीप क्या होता है
कोरल द्वीप क्या होता है 


कोरल द्वीप क्या होता है, What is coral island?

कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप आइलैंड का एक प्रकार है जिसका निर्माण कार्बनिक पदार्थों से होता है और ये समुन्द्र तल में मौजूद होता है | अमूनन देखा गया है की इस का निर्माण उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में ज्यादा होता है और साधारन्यतः ये समुन्द्र के निचे के भाग को कवर करने के लिए प्राकृतिक रूप से विकसित होता है | इस तरह से कवर करने को विकसित हुयें उस पदार्थ को प्रवाल भित्ति भी कहते हैं | 

इस धरती या यों कहे की ग्रह पर प्रवाल भित्ति सबसे पुराना इकोसिस्टम में से एक है, जो भूमि के तलहटी में चूना पत्थर से बड़े बड़े प्रवाल भित्ति का निर्माण कर देता है | ये इकोसिस्टम द्वारा निर्मित प्रवाल भित्ति पर्यावरण के लिए बहुत ही लाभदायक होता है जो पौधों और जानवरों की प्रजातियों को संयोजित करने और आगे बढाने में सहयोग करता है | 

ये प्रवाल भित्तियाँ जीवन चक्र को समर्थन करने और समुन्द्र में रहने वाले जीव जन्तुवों के पोषण के लिए बहुत ही आवश्यक हैं और उनके संरचना को बनाये रखने ने सहायता करती हैं साथ ही ये भी कहा जा सकता है की पारिस्थितिकी तंत्र को सुचारू रूप में चलाने में अपना योगदान करती हैं |

इन प्रवाल भित्तियों से बहुत बड़े रूप में चूने का निर्माण हो पाता है जो की वहाँ रहने वाले जानवरों के लिए एक घर का काम करता है और वे उसमे ही अपना निवास स्थान बना लेती हैं, जो उन्हें सुरक्षित रखता है | इन में मछलियाँ छिप जाती हैं और अन्य जीव अपने को मूंगा की संरचना से जोड़ कर अपनी सुरक्षा करते हैं | 

ये संरचना उन पौधों के लिए भी सहायक सिद्ध होती है जो प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया से गुजरते हैं और जिनके लिए सूर्य का प्रकाश जरुरी होता है | ये पौधे पानी की सतह के ऊपर आ कर सूर्य के प्रकाश को जल के अन्दर तक प्रवेश का मार्ग प्रशस्त करती हैं, जिससे वे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया कर सके और उनका ग्रोथ बाधित न हो | ये प्रवाल भित्तियाँ समुन्द्र में मौजूद मछलियों और पौधों को पनपने में सहायक सिद्ध होती हैं |

प्रवाल सबसे अधिक उपयोगी मछलियों के लिए है जो उनकी आबादी को बढाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसलिए पर्यावरण विद भी प्रवाल भीत्तियों के अस्तित्व को बनाये रखने की वकालत करते हैं | आपको ये भी बता दें की कई प्रवाल द्वीप या कोरल द्वीप समुन्द्र के तल से बहुत कम ऊँचाई पर स्थित हैं और बहुत ही छोटे हैं | 

हमें इस पर्यावरण में होने वाले परिवर्तन पर ध्यान देना होगा और उसे बेहतर रखने पर जोर देना होगा, क्योकि रासायनिक और भौतिक परिवर्तनों के कारण इकोसिस्टम को नुक्सान पहुँच सकता है और कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप की बनाने वाली श्रृंखला के निर्माण में कमी आ सकती है जो समुंद्री जीवों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है | समुंद्र में ज्यादा अम्लता का बढ़ना भी प्रवाल की वृद्धि में गतिरोध का काम करती है, इसलिए उसे भी सहज रखना होगो |

आपको बता दें की कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप का निर्माण भूगर्भीय समय में चट्टान के ऊपर तक आने से हो सकता है | जो भूमि पर रहने वाले जीव जन्तुवों के लिए एक नया पारिस्थितिकी तंत्र बनाने में अपना योगदान कर सकता है |

एक कोरल आइलैंड के निर्माण एक गर्म स्थान पर जवालामुखी द्वीप के रूप में हो सकता है | आप इसे ऐसे समझे की ज्वालामुखी समुन्द्र से निकलता है और इसी के साथ फ्रिंजिंग रीफ भी बढती जाती है | इसके बाद प्लेट टेक्टोनिक्स की प्रक्रिया शुरू होती है और ज्वालामुखी को इस के माध्यम से गुजरना पड़ता है और गरमी वाली जगह से वो दूर चली जाती है | 

उसके बाद जब द्वीप जल में समाहित हो जाता है तो प्रवाल को एपिपेलैजिक क्षेत्र में बढ़ना पड़ता है, प्लेट टेक्टोनिक्स प्रकिर्या के तहत लैगून आइलैंड बनाने की प्रकिया को शुरू कर सकता है जिसमे कार्बोनेट सामाग्री उनका सहयोग करती है | 

आपको बता दें की विश्व के सबसे अधिक कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप प्रशांत महासागर में अवस्थित हैं| इसके अतिरिक्त आप उदहारण के तौर पर अमेरिकी क्षेत्र का जार्विस, बेकर और हाउलैंड द्वीप को देख सकते हैं, साथ ही भारत में स्थित लक्षद्वीप भी एक द्वीप है और 39 कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप का ग्रुप है | आप को कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप के रूप में किरिबाती, मालदीव, सेंट मार्टिन, पटाया और थाईलैंड भी आते है जो कोरल द्वीप या प्रवाल द्वीप का जीता जागता उदहारण हैं |

आपको बता दें की कोरल रीफ क्या है? 

समुद्र के अन्दर स्थित चट्टान को प्रवाल शैल-श्रेणियाँ यानि कोरल रीफ कहा जाता है, जिनका निर्माण प्रवालों द्वारा छोड़े गए कैल्सियम कार्बोनेट नामक पदार्थ से होता है और ये समुन्द्र की सतह की एक महत्वपूर्ण इकाई है |

आपको ये पोस्ट 'कोरल द्वीप क्या होता है | What is coral island' कैसी लगी अगर अच्छी लगी तो सब्सक्राइब करे|

टिप्पणियाँ

Popular Post Of Website TNM

BA 2nd Year History 1&2 Most Important Questions 2022 In Hindi

BA 2nd Year Sociology 3&4 Important Questions 2022 In Hindi

BA 2nd Year Political Science Paper 2 Subsidiary Questions 2022 In Hindi

Bsc 2nd Year Botany 1st Paper Important Question 2022 In Hindi

Bsc 2nd year Inorganic Chemistry Most important Questions 2022 In Hindi