Skip to main content

भूकंप क्या है | What Is Earthquake Explain In Hindi

भूकंप क्या है | What Is Earthquake Explain In Hindi - भूकंप की कार्य प्रणाली आज भी बहुत कम लोग जानते हैं इसका कारण है की भूकंप कभी कभी ही आता है और कोई भी व्यक्ति तभी किसी चीज को लेकर सजग रहता है जब उसे प्रतिदिन उसका सामना करना पड़ता है | आज हम इस पोस्ट के माध्यम से कुछ जानकारियों को आप लोगो तक पहुचाने का प्रयास करेंगे | 

भूकंप को अंग्रेजी में Earthquake कहा जाता है | सब से पहले ये जानते हैं की भूकंप क्या है | साधारण भाषा में इसे भूकंप या भूचाल कहते हैं इस शब्द का ज्यादा प्रयोग हिंदी भाषी क्षेत्र में किया जाता है और दूसरे जगह के लोग इंगलिश शब्द Earthquake का प्रयोग किया करते हैं | 

भूकंप हमारी पृथ्वी के निचे के स्थलमण्डल यानि इंलिश में कहे तो लिथोस्फ़ियर में जमा होने वाले उर्जा के दबाव के मुक्त होने के कारण होता है जो बाहर निकलने के लिए जबरदस्त भूकंपीय तरंगो को उत्त्पन्न करती हैं | 


भूकंप क्या है, What Is Earthquake
भूकंप क्या है | What Is Earthquake 

इसकी छमता का आंकलन इसी बात से लगाया जा सकता है की तीव्र आवृति वाले भूकंप में इतनी ताकत होती है की वो एक पूरे शहर को मिनटों में तबाह कर दे | इससे होने वाली तबाही पर ध्यान दिया जाये तो भूकंप पर निबंध भी हिंदी में लिखा जा सकता है | ऊपर लिखे गए वाक्य को आप भूकंप की परिभाषा के तौर पर भी देख सकते हैं |

आईये जानते हैं कुछ प्रश्नों के उत्तर यहाँ से 

भूकंप आने के कारण या भूकंप कब आता है - भूकंप आने का मुख्य कारण टेक्टोनिकल प्लेटों में तेज हलचल को माना जाता है जो भूमि के निचे होती हैं | इन प्लेटो के आपसी घर्षण से ही वृहत उर्जा का निर्माण होता है और उस उर्जा के बाहर निकलने की प्रक्रिया के दौरान ही भूकंप के झटके हमें महसूस होते हैं | भूकंप के उत्पन्न होने वाली जगह को इसका केंद्र बिंदु या हाइपोसेंटर कहा जाता है |

भूकंप कितने प्रकार के होते हैं 

साधारण रूप में भूकंप चार प्रकार के होते हैं 

1) विवर्तनिक भूकंप - ये बहुत ही साधारण भूकंप की श्रेणी में आता है और इसका प्रभाव भी सिमित होता है | ये भूकंप पृथ्वी के क्रस्ट में विद्यमान टेक्टोनिकल प्लेटों में होने वाले हलचल के कारण होता है |

2) संक्षिप्त भूकंप - इस भूकंप को ज्यादातर खानों के आस पास होते हुयें देखा जाता है इसका निर्माण खानों के पत्थरों के बीच उत्पन्न टकराव के बाद के दबाव के कारण होता है |

3) विस्फोटक भूकंप - इस तरह का भूकंप हमारे द्वारा निर्मित होता है मतलब मानव द्वारा | हमारे कार्यकलाप के कारण ये उत्पन्न होते हैं जैसे खानों में पत्थर तोड़ने के लिए विस्फोटक का इस्तेमाल, जिसमे उच्च ताकत के विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाता है जो भूकंप को उत्पन्न होने में सहायक सिद्ध होता है |

4) ज्वालामुखीय भूकंप - इस भूकंप का निर्गम स्थल ज्वालामुखी का मुख होता है जहाँ से लावा, राख आदि भारी मात्र में निकल कर पृथ्वी के उपरी भाग में फ़ैल जाता है | ये प्रतिक्रिया भी पृथ्वी के अन्दर होने वाले पत्थर के टकराने से उत्पन्न दबाव की वजह से होता है |

भूकंप से लाभ और हानि के प्रभाव का वर्णन कीजिए

भूकंप से हमें यानि साइंटिस्ट को पृथ्वी के निचे दबे हुये ज्ञान को प्राप्त करने में सहायता मिलती है | इससे होने वाले बदलाव भी जबरदस्त होते हैं भूकंप कई तरह की नयी घाटियों, पहाड़ो आदि का जन्म कर देती है और स्थलाकृति में भी एक बदलाव लाती है | जिनका आंकलन साइंटिस्ट पृथ्वी के निचे होने वाली हलचल और बदलाव को जानने के लिए करते हैं |

समुन्द्र के तरफ आने वाले भूकंप उनके तटीय स्थल को और भी निचे ले जाती हैं जो एक सुरक्षित बंदरगाह के लिए आवश्यक है | इससे बड़े बड़े झीलों और जल स्रोतों का भी निर्माण होता है जो मनुष्य के लिए जरुरी सुविधावो में से एक है |

भूकंप से हानि भी है | इसके के कारण से कई नदियों का मार्ग बदल जाता है जो अनावश्यक रूप से कुछ क्षेत्रो में बाढ़ का कारण भी बनता है | ये नदियों के मार्ग को अवरुद्ध भी कर देता है | समुंद्र में आने वाले भूकंप से बड़ी बड़ी लहरे आती हैं और समुंद्री जहाजो को डूबा ले जाती हैं | इससे उत्पन्न भ्रंश से यातायात बाधित होता है और सड़को का विनाश होता है | 

जापान में भूकंप से बहुत क्षति पहुँचती है लेकिन वहाँ की टेक्नोलॉजी इतनी एडवांस है जिस कारण से वहाँ रिकवरी बहुत कम समय में हो जाती है | एक तरह से देखा जाये तो इसके प्रभाव बहुत ही व्यापक पड़ते हैं | भूकंप से ये सभी नुकसान देखे गए हैं |

भूकंप से बचने के लिए उपाय 

भूकंप से बचने के लिए आपको कही भी लिफ्ट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए | हमेशा सीढियों का इस्तेमाल करे | आप अगर खड़े हैं और भूकंप आता है तो तुरंत फ़र्श पर रखे हुयें मजबूत टेबल या कुर्सी के निचे चले जाये और अपने सर को ढके | झटके रुकने के बाद ही बाहर का रुख करे | 

बिजली के उपकरण का इस्तेमाल न करे और कोशिश करे के सभी विद्युत उपकरण का स्विच ऑफ रहे | अगर आप मलबे के अन्दर दब गए हैं तो चिल्लाते रहे या किसी पाईप आदि को बजाते रहे | जिसे सुनकर कोई आपको मदद पंहुचा सके | भूकंप के समय हमें इन सावधानियों को बरतना चाहिए और जानकारी रखनी चाहिए क्योकि भूकंप की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है की ये कब आएगा |

भूकंप और सुनामी में क्या अंतर है?

सीधे शब्दों में कहा जा सकता है की भूकंप का कारण हो सकता है लेकिन सुनामी एक परिणाम है जो भूकंप के कारण होता है | ये भी कहा जा सकता है की सुनामी ज्यादातर समुन्द्र में आता है जबकि भूकंप मानव द्वारा भी निर्मित हो सकता है | जैसे किसी पहाड़ के एक बड़े भाग में स्खलन हो तो उससे भी भूकंप आ सकता है और अगर वह स्खलन विस्थापन्न को जन्म दे तो सुनामी आ सकती है |

समुद्र में उत्पन्न भूकंप क्या कहलाता है?

सुनामी शब्द का प्रचलन जापान देश से शुरू हुआ या यो कहे ये एक जापानी शब्द है | सुनामी में सु का मतलब समुन्द्र तट और नामी का मतलब लहरे | इसलिए समुद्र से उत्पन्न भूकंप की संज्ञा इसे दी गयी है |

जापान में सबसे ज्यादा भूकंप टेक्टोनिक प्लेट्स के कारण से आती है | जापान में पसिफिक रिंग ऑफ फायर का क्षेत्र है और टेक्टोनिक प्लेट्स के अभिकेंद्रित सीमा के कारण भी यहाँ ज्यादा भूकंप के झटके आते हैं जो रिएक्टर स्केल पर कभी कभी उच्च आवृति भी दर्शाते हैं |

भारत में चार भूकंप केंद्र हैं जिनमे दिल्ली, मथुरा और बुलंदशहर तीव्र भूकंप के झटको के लिए जाने जाते हैं | भारत में उत्तर पूर्व के सभी राज्यों क्षेत्र में सबसे अधिक भूकंप आते हैं | 

क्या आप जानते हैं की भूकंप का  अध्ययन क्या कहलाता है तो आपको बता दे की उसे सिस्मोलॉजी कहते हैं | 

भारत में सबसे पहले भूकंप 1618 में मुंबई में आया था और सबसे बड़ा भूकंप 1737 में बंगाल में आया था | ऐसा कहा जाता है की बंगाल के भूकंप में करीब 3 लाख लोग मरे थे | भूकंप की दृष्टि से भारत का अत्यधिक प्रभावित क्षेत्र महारास्ट्र, केरल, पश्चिम बंगाल, बिहार में पटना और केरल में कोच्ची और तिरुवनंतपुरम हैं और भारत में भूकंप का सर्वाधिक संवेदनशील नगर में हैदराबाद और बिहार राज्य का भागलपुर जिला आता है |

भूकंपमापी यंत्र क्या कहलाता है?

जैसा की शब्दों से पता चलता है की भूकंप को मापने वाले यंत्र को भूकंपमापी यंत्र कहा जाता है और इसको मापने वाले यंत्र का नाम 'रिक्टर पैमाना' कहा जाता है | ये यंत्र भूकंप की तरंगो की तीव्रता का आंकलन करता है | जिसे रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल भी कहा जाता है | 

एक और पैमाना है जिसे मरकेली स्केल कहा जाता है जो भूकंप की तीव्रता की जगह उसके ताकत को आंकलन का आधार बनाता है लेकिन वैज्ञानिक ज्यादा इस्तेमाल रिक्टर पैमाना का ही करते हैं |

आज इस पोस्ट के माध्यम से आप को जानकारी मिल गयी होगी की भूकंप क्या है ( What Is Earthquake )| अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो सब्सक्राइब करे |

जापान में भूकंप के बाद आई सुनामी की विडियो 

इन्हें भी पढ़े

ओटीपी का मतलब क्या होता है बताये 

किन फिल्मो को जानबूझकर खराब बनाया गया?

सूर्यग्रहण के महत्वपूर्ण तथ्य जो सूर्यग्रहण के बारे में जानना चाहिए

कान का मैल कैसे निकाले घरेलू उपाय जो बेहद कारगर और सुरक्षित हैं?

दही में नमक मिलाने से क्या होता है 

Comments

Popular posts from this blog

10 ऐसी बातें जो हम नहीं जानते Johnny Sins के बारे में

आज जानेगे  10 ऐसी बातें जो हम नहीं जानते Johnny Sins के बारे में | भारत में बहुत कम ही लोग इनके बारे में जानते हैं क्यों की ये एक ऐसी इंडस्ट्री से जुड़े हुये थे जिसे भारत के संस्कृति के अनुरुप नहीं माना जाता है और हमारे समाज का नजरिया भी उस फिल्ड या व्यवसाय के लिए अलग ही है | Johnny Sins Hot Image Johnny Sins का असली नाम Steven Wolf था | ये निर्देशक, अभिनेता और इंटरनेट के प्रेमी थे | वैसे ये मूल रूप से Adult Movie में काम करने वाले एक अभिनेता थे और Johnny Sins Porn मूवी में काम करने के कारण ही प्रसिद्धि प्रसिद्ध हुयें थे | Johnny Sins के उनके कार्यो के लिए बहुत बार पुरष्कृत भी किया गया था |  10 ऐसी बातें जो हम नहीं जानते Johnny Sins के बारे में उनको Male Performing Actor का AVN अवार्ड भी मिला था | वे Porn Movie Industry के एक बड़े अभिनेता में गिने जाते थे | Johnny Sins Sex के Video आज भी इन्टरनेट पर उपलब्ध हैं जो बेहद पोपुलर हैं साथ ही Johnny Sins के hot विडियो पर जबरदस्त लाईक और फॉलोवर हैं | इस फिल्ड में आने के पहले उन्होंने कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में एक वर्कर के तौर पर काम शुरू किया था

8 ऐसी जानकारियां जो नहीं जानते हैं Kissa Sins के बारे में

कुछ 8 ऐसी जानकारियां जो नहीं जानते हैं Kissa Sins के बारे में | किस्सा सिंस संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं और ये एक अमेरिकन एडल्ट एक्ट्रेस के साथ ही मॉडल हैं | वैसे प्रोफेशन के तौर पर Kissa ने अपने कैरिएर की शुरुआत एक entrepreneur के रूप में की थी और शादियों से सम्बंधित प्लानिंग का काम करती थी | इसी बीच उनकी मुलाकात पोर्न स्टार Johnny Sins से सोशल मीडिया अकाउंट इंस्टाग्राम पर हुईं |  किस्सा सिन्स मनोरंजन के मूड में  बाद में kissa ने जॉनी सिन्स से शादी कर ली | उनके पति जॉनी सिन्स पॉर्न फिल्म अभिनेता के साथ ही मॉडल भी हैं और टॉप 10 पुरुष पॉर्नस्टार्स में से एक हैं | Kissa Sins ने जॉनी सिन्स से मिलने के बाद ही adult movies में अपने कैरिएर की शुरुआत की और एक जानीमानी अभिनेत्री बन गयी | आने वाले समय में ये कई adult web series में भी दिख सकती हैं | Kissa Sins अपने पति जॉनी सिन्स के साथ  Kissa Sins का जन्म 22 जून 1987 को पासाडेना, कैलीफोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ और ये लगभग 34 साल की हैं | किस्सा सिंस के इंस्टाग्राम अकाउंट का नाम coyotelovesyou है और इनके 1.3m एक्टिव फोल्लोवेर्स हैं

Leah Gotti Biography | लीह गौटी का जीवन परिचय हिंदी में

आपने Leah Gotti के बारे में तो सुना ही होगा अगर नहीं तो आज हम जानेंगे अभिनेत्री लेह गोटी के बारे में विस्तार से | Leah Gotti एक अभिनेत्री हैं और इनका जन्म शेर्मन, टेक्सास, संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ है | इनका जन्म 1997 में हुआ था | लीह गौटी ने कई फिल्मों जैसे - Coming of Age Vol. 2, A Soft Touch 2, Interracial Icon Vol. 3 आदि में काम किया है | Leah Gotti के विषय में आप क्या जानते हैं Leah Gotti Biography | लीह गौटी का जीवन परिचय हिंदी में Leah Gotti Wikipedia पर भी हैं इनको फॉलो करने वाले Leah Gotti को instagram पर सर्च करते हुयें देखे जा सकते हैं वहाँ Leah Gotti के latest Pics और Sex Videos भी मिल जायेंगे | लीह गौटी ने अपने कुछ gif भी अपने सोशल मीडिया पर अपलोड कियें हैं जो लोगों को पसंद आ रहे हैं | Leah Gotti के विषय में आप क्या जानते हैं एडी ब्रॉगडन, रोंडा ब्रॉगडन Leah Gotti के माता पिता हैं | इनका बचपन के समय में नाम Raegan Leah Brogdon था| आपको ये भी बता दे की लिआह गोटी अपने घर में बहुत सख्ती के साथ रहती थी | कहने का मतलब है की इनका पालन पोषण बहुत सख्त माहौल में हुआ है | जब Lea