पोस्ट

2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया था और किस देश ने

इमेज
आईये आज जानते हैं की हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया था और किस देश ने | आज के परिपेक्ष्य में प्रत्येक देश अपनी सुरक्षा के लिए सभी संभव कदम उठा रहा है | बमों का निर्माण भी इसकी एक वजह है | विश्व में कई तरह से बमों का निर्माण हो चूका है आज बस उसकी समीक्षा करके लगभग सभी देश उससे ज्यादा शक्तिशाली और प्रभावकारी बमों का निर्माण करने की होड़ में लगे पड़े हैं |  अंतर्राष्ट्रीय मंचो पर परमाणु निरस्त्रीकरण की सिर्फ बात होती है | धरातल पर उसका प्रभाव बहुत कम है और कई देश इस प्रक्रिया को करने से भी हिचकते हैं की कहीं उन्होंने निरस्त्रीकरण की संधि पर हस्ताक्षर कर दिया तो दूसरे देश उनकी सीमा का अतिक्रमण करेंगे | विध्वंसकारी बमों जैसे हाइड्रोजन, परमाणु आदि का निर्माण तो बहुत पहले ही हो गया था, अब उनके शक्तिशाली बनाने की प्रक्रिया चल रही है | आईये आज उस शक्तिशाली बमों में से एक  हाइड्रोजन बम के आविष्कारक और उसके निर्माता देश के बारे में विस्तार से जानते हैं | हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया था हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया था और किस देश ने हाइड्रोजन बम एक बेहद संवेदनशील और विनाशकारी बम ह

प्राइवेट जॉब में लोकल लोगों को पचहत्तर प्रतिशत आरक्षण कहाँ लागु हुआ

इमेज
आईये जानते हैं की  प्राइवेट जॉब में लोकल लोगों को पचहत्तर प्रतिशत आरक्षण कहाँ लागु हुआ | जैसा की सभी जानते हैं की आरक्षण का मुद्दा हमेशा से सेंसटिव रहा है | जब भी इसकी बात आती है तो लोगो के कान खड़े हो जाते हैं | आज भी ये एक रानजीतिक मुद्दा के तौर पर काम करता है |  भारत के हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने ये जानकारी समाचार एजेंसी के साथ साझा की है| उन्होंने ये बात बताई की हरियाणा में निजी क्षेत्र में राज्य के लोगो की प्राथमिकता को तय करते हुयें पचहत्तर प्रतिशत आरक्षण के विधयक को मजूरी दे दी गयी है | इस कोटे की अवधी दस साल की होगी और इससे एक बड़ा वर्ग लाभांवित होगा |  प्राइवेट जॉब में लोकल लोगों को पचहत्तर प्रतिशत आरक्षण देने वाले विधेयक को हरियाणा राज्य के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य के द्वारा भी मंजूरी दे दी गयी है | जैसा की विदित है की इस विधेयक को पिछले साल ही पारित कर दिया गया था जो उस समय की सतारूढ़ राजनितिक पार्टी का एक मुख्य चुनावी मुद्दा था | उस राजनितिक पार्टी का नाम जननायक जनता पार्टी था |  प्राइवेट जॉब में लोकल लोगों को पचहत्तर प्रतिशत आरक्षण कहाँ लागु हुआ

भारत का राष्ट्रीय खेल क्या है और किसे होना चाहिए

इमेज
आज का विषय है की भारत का राष्ट्रीय खेल क्या है और किसे होना चाहिए | ये प्रश्न आपको थोडा सोचने पर मजबूर कर देगा की ये कौन सा विषय है जिस पर चर्चा होनी चाहिए | भारत सरकार की मनसा पर कोई प्रश्न चिंह्न नहीं लगाया जा रहा है, बस इस बात पर बल दिया जा रहा है की क्या ये प्रश्न होना चाहिए या नहीं |  जैसा की सभी जानते हैं की भारत में खेल को लेकर लोगो में कितना उत्साह होता है | देश के किसी भी कोने में खेल का आयोजन हो तो पूरा स्टेडियम खचा-खच भरा रहता है और सभी टिकट घंटो में बिक जाते हैं | कुछ लोग तो सिर्फ इसलिए भी जाते हैं की खिलाडियों को नजदीक से देख सके और कुछ इसलिए की खेल को लाइव देख सके |  विश्व के सभी देश अपने देश की परंपरा और खेल मान्यता को ध्यान में रख कर ही राष्ट्रीय खेल (National Game) का चयन करती है| उसी तरह से भारत में भी राष्ट्रीय खेल का चयन बहुत पहले कर लिया गया था और वो आज तक चला आ रहा है | सवाल ये उठता है की क्या चयन सही था और अगर नहीं तो राष्ट्रीय खेल किसे होना चाहिए था |  भारत का राष्ट्रीय खेल क्या है-National Game Of India ये बात किसी से छुपी नहीं है की भारत के लोग क्रिकेट से खास

दुनिया का आठवां अजूबा कौन सा है

इमेज
आज आप इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे की दुनिया का आठवां अजूबा कौन सा है | वैसे तो पूरा विश्व ही अजूबो से भरा पड़ा है और उन अजूबों की कहानी भी बड़ी ही विचित्र है | वे जहाँ स्थापित है उस जगह और शहर की संस्कृति के साथ ही उस देश के इतिहास की भी गवाही देते है | बहुत से तथ्य ऐसे भी निकल के आते हैं की देखने वाले की आँखे चुधिया जाएँ |  वैसे तो भारत के बहुत से तीर्थस्थल और पौराणिक जगहों पर मौजूद कृतियों को अजूबा के तौर पर शामिल किया गया है | जैसे - ताजमहल, स्वर्ण मंदिर, हंपी, नालंदा, कोणार्क और खुजराहो आदि | इस जगहों का अपना महत्व है और इनसे सम्बंधित सभी तथ्यों के आधार पर इनको अजूबो की लिस्ट में शामिल किया जाता है | दुनिया का आठवां अजूबा कौन सा है हाल में आठ देशो के अंतरराष्ट्रीय सगठन ने लिस्ट में भारत के स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को सम्मलित किया है इसका निर्माण भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के शासन काल में हुआ और इसे  शंघाई संगठन ने आठवें अजूबा के तौर पर मान्यता दी है | वर्तमान में किये गए सर्वे के आधार पर जो आकड़ें आये हैं उसके अनुसार 31 लाख पर्यटकों ने इसे देखा है और उनसे करीब 80 करोड़ की आमद

आईये जानते हैं संत रविदास और कबीरसाहेब के बारे में

इमेज
इस पोस्ट के माध्यम से आईये जानते हैं संत रविदास और कबीरसाहेब के बारे में |  आज यानि 27 फ़रवरी को संत रविदास की जयंती मनाने का दिन है | हिन्दू शास्त्र और पंचाग ये निर्देशित करते हैं की माघ पूर्णिमा के दिन संत रविदास की जयंती मने |  आपको बता दे की संत रविदास एक महान संत थे और इनका नाम भारत के गिने चुने सर्वश्रेष्ठ संतो में आता है | वैसे तो भारत के लगभग सभी संत दयालु और भारतीय संस्कृति को लेकर चलने वाले होते हैं लेकिन संत रविदास का ह्रदय बहुत ही सरल था |  उन्होंने अपने जीवन में पवित्रता और संस्कृति पर जोर दिया साथ ही बाह्य और दिखावे वाले आडम्बरो को करने से अपने आप को बचाए रखा | इस कारण से उनके ह्रदय की पवित्रता बनी रही और लोगो के बीच उनका सम्मान भी बढ़ता गया |  आईये जानते हैं संत रविदास और कबीरसाहेब के बारे में संत रविदास जी के अनमोल वचन   जब कभी भी आम जन और जीवन जीने की सरलता की बात समूह में आती है तो संत रविदास के दोहे जरुर से कहे जाते हैं की "मन चंगा तो कठोती में गंगा" | इसका सीधा सा अर्थ ये है की अगर लोग अपने मन को साफ़ और सरल रखे तो गंगा के तट पर जाने की जरुरत नहीं है | इस लो

दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेक्टर कौन सा है

इमेज
क्या आप जानते हैं की दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेक्टर कौन सा है | शायद नहीं जानते हों, तो आज हम इस पोस्ट के माध्यम से इससे सम्बंधित जानकारी शेयर करने जा रहे है | इस प्रश्न के अलावा कुछ और भी रोचक तथ्य और जानकारियों को भी इस पोस्ट में समाहित करने की कोशिश की जाएगी | आशा करता हूँ की आपको पसंद आएँगी| जैसा की आप सभी जानते हैं की भारत एक कृषि प्रधान देश है और यहाँ की एक बड़ी आबादी गाँव में निवास करती है | कृषि प्रधान देश होने के कारण आज गाँव के लोग नई नई कृषि तकनीको का सहारा ले रही है | ये तकनीक उनका समय और शक्ति दोनों को बचाती है |  पहले कृषि का काम बैल और हल के माध्यम से किया जाता था | कृषक बैल को हल में जोतकर अपने खेत की जमीन को जोतता था और बीजो को रोपित करता था | इस प्रक्रिया में बहुत समय और उर्जा का ह्रास होता था | आज ये काम ट्रेक्टर की मदद से की जाती है | पुरानी प्रक्रिया का इस्तेमाल आज भी किया जाता है लेकिन आज जो किसान आर्थिक रूप से कमजोर हैं वो ही किसान बैल और हल का प्रयोग कर रहे हैं | नई तकनीक और उपकरण की जानकारी खेती किसानी करने वाले लोगो को जानना बहुत ही जरुरी है | आज के समय में ऑटोम

अंतरिक्ष में जाने वाला पहला भारतीय कौन था

इमेज
क्या आप जानते हैं अंतरिक्ष में जाने वाला पहला भारतीय कौन था | वैसे तो अंतरिक्ष हमेशा से पृथ्वीवासिवो के लिए एक कौतुहल का विषय रहा है | धरतीवासी ये जानना चाहते हैं की अंतरिक्ष में क्या होता है वहाँ क्या है हमारी धरती कैसे बनी आदि आदि |  दुनिया के प्रत्येक देश अंतरिक्ष में अपने सेटेलाइट भेजते रहते हैं और वहाँ की जानकारियो को संगृहीत करते हैं | उन जानकारियों और इकठ्ठा किये गए साक्ष्य के आधार पर आगे अंतरिक्ष के रहस्यों का विश्लेषण किया जाता है| इन्ही साक्ष्यो और जानकारियों को प्राप्त करने के लिए दुनिया के सभी देश अपने वैज्ञानिक और अंतरिक्ष के जानकर को वहाँ राकेट के माध्यम से भेजते हैं | अंतरिक्ष में जाने वाला पहला भारतीय कौन था आज अमेरिका के साथ ही बहुत से यूरोपियन देशो ने अपने वैज्ञानिको को अंतरिक्ष में भेजा है उसी क्रम को आगे बढ़ाते हुये भारत ने भी इस ओर कदम बढाया और अंतरिक्ष में जाने वाला पहला भारतीय हमारे सामने आया |  उनका नाम राकेश शर्मा था और उनका जन्म 13 जनवरी 1949 को पंजाब प्रांत के पटियाला में हुआ था | राकेश शर्मा एक हिन्दू ब्राह्मण परिवार से थे और उनकी पढाई लिखाई हैदराबाद के उस्म

महाभारत का युद्ध कितने दिन चला था बताएं

इमेज
क्या आप जानते हैं की महाभारत का युद्ध कितने दिन चला था , नहीं न | आज इस पोस्ट के माध्यम से इस बात की जानकारी के साथ महाभारत से जुडी कुछ और भी जानकारियों को साझा करने की कोशिश करूँगा | अगर पसंद आये तो सब्सक्राइब और शेयर करे |  महाभारत की कहानियाँ तो सभी ने सुनी होगी और बहुत सी बाते जानते होंगे | महाभारत से जुड़े रोचक तथ्य को जानने के लिए आपमें उत्सुकता हमेशा बनी रहती होगी, उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुयें आज जानते हैं की महाभारत का युद्ध कितने दिन चला था | जैसा की आप सभी जानते हैं की महाभारत की लड़ाई को पांडवो के पक्ष में लाने में श्री कृष्ण की नीतियां बहुत हद तक जिम्मेवार थीं | महाभारत का युद्ध बहुत कम समय में भी ख़त्म हो सकता था लेकिन परिस्थिति कुछ ऐसी बनी की ये युद्ध बहुत लम्बा खीचं गया |  आपको बता दे की मार्गशीर्ष शुक्ल 14 से महाभारत युद्ध की शुरुआत हुईं थी और वो लगातार 18 दिनों तक चली थी| महाभारत के युद्ध के प्रारंभिक दिनों में पांडवो को बहुत जबरदस्त हानी का सामना करना पड़ा था | पांडवो की तरफ से लड़ने वाले विराट नरेश के पुत्र उत्तर और श्वेत को भीष्म और शल्य ने मार दिया था। महाभारत का युद्ध क

दुनिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है टॉप टेन की लिस्ट

इमेज
आज जानते हैं दुनिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है और टॉप टेन की लिस्ट में कौन सा धर्म सबसे ऊपर है | वैसे तो पूरे विश्व की बात करे तो इस धरा पे कई धर्म के लोग रहते हैं | कुछ देश ऐसे भी हैं जहाँ एक धर्म के लोगो का वर्चस्व है और कुछ ऐसे भी हैं जहाँ कई धर्म के लोग एक साथ रहते हैं |  धर्म को लेकर लगभग सभी का अपना एक मत है और दुनिया के सभी धर्म अपने धार्मिक ग्रंथो में दिए गए उपदेश और नियम के तहत काम करते हैं | जब किसी धर्म के लोग मानवता को ध्यान में रखकर काम नहीं करते तो उन्हें विरोध का सामना भी करना पड़ता हैं | ये विश्व के लगभग सभी देशो में होता है | दुनिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है टॉप टेन की लिस्ट आज भी लोगो के बीच ये चर्चा का विषय होता है की दुनिया का सबसे बड़ा धर्म कौन सा है | विश्व के लगभग सभी देशों में दस में से आठ व्यक्ति किसी न किसी धर्म से अपने को जोड़े हुयें है आप इस बात से भी इसका आंकलन कर सकते हैं की विश्व की आबादी लगभग 770 करोड़ है और कई धर्म जैसे हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई को मानने वाले लोग रहते हैं | कही हिन्दू की संख्या अधिक है तो कही मुस्लिम की |  भारत एक ऐसा देश है जहाँ सभी

पहली बार जानें इतने खास रोचक तथ्य फोटो के साथ

इमेज
पहली बार जानें इतने खास रोचक तथ्य फोटो के साथ   | जैसा की आप सभी जानते हैं की भारत विविधताओ से भरा देश है यहाँ की संस्कृति, खान पान और रहन सहन सभी कुछ भारत के लोगो का अपना है |  भारत क्षेत्रफल में इतना बड़ा देश है की सभी जगहों पर जाना संभव नहीं है | इसलिए भारत के लोग बहुत सी बातो को किताबो ये समाचार पत्र के माध्यम से जान पाते हैं | भारत के साथ ही विश्व में भी कुछ ऐसे रोचक तथ्य मौजूद हैं जो शायद ही आप लोग जानते होंगे | आज पहली बार जानें इतने खास रोचक तथ्य जो आपके समक्ष प्रेषित किया जा रहा है और आपको भी आश्चर्य होगो की ऐसा भी होता है या ऐसा तो कभी देखा नहीं | चलिए शुरुआत करते हैं इन बातो के साथ | वैसे तो भारत में पाइनएप्पल यानि अनानास की खेती होती है और लोगो को ये फल पसंद भी है सभी जानते हैं की अनानास सेहत के लिए फायेदेमंद है और पौष्टिक भी |  अनानास के औषधीय गुण और जूस के फायदे बहुत हैं| इसका जूस शारीर के कई विकारो को समाप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है लेकिन क्या आपने कभी इसके खेत को देखा है | नहीं न, तो आज इसके खेत की फोटो आपके समक्ष रखते हैं |  पाइनएप्पल यानि अनानास के रोचक तथ्

हिन्दू धर्म कितना पुराना है ?

इमेज
चलिए आज जानते हैं की हमारा हिन्दू धर्म कितना पुराना है | वैसे तो सभी जानते हैं की भारत में धर्म का प्रचलन बहुत ही पुराना है हमारी संस्कृति का आधार ही धर्म है | भारत में कई धर्म के लोग रहते हैं और सभी एक दूसरे के धर्मो का आदर करते हैं |  धर्म अपनी विशिष्टता के लिए ही जाने जाते हैं | हिन्दू धर्म में देवी देवतावो का महत्व है लोगो की आस्था है और संस्कृति भी | भारत के कई तीर्थ स्थल हिन्दू धर्म की प्रमाणिकता को बताते हैं | कई पीठ लोगो के लिए आज भी कौतुहल का विषय है उन स्थल की विशिष्टता का बखान वे अन्य लोगो से भी करते हैं खास कर सैलानियों से| जैसे बनारस का गंगा घाट हो, थावे की दुर्गा जी का पीठ हो, पटनदेवी के मंदिर की बात हो आदि|  हिन्दू धर्म कितना पुराना है ? हिन्दू धर्म की बात करे तो हिन्दू धर्म सबसे प्राचीन सनातन धर्म है और इसे विश्व के प्राचीनतम धर्म की भी संज्ञा दी गयी है | हिन्दू धर्म के अनुयायी कई देशो में फैले हुयें हैं जो इसके महत्व का प्रचार और प्रसार करते हैं जैसे - नेपाल, मौरिसश, भारत आदि | नेपाल को तो हिन्दू राष्ट्र ही माना जाता है |  रामायण की कथा नेपाल में भी प्रचलित है और सीता